हैदराबाद डॉक्टर मर्डर: चार में से एक आरोपी ने जेल प्रशासन से की ये मांग | hyderabad doctor murder: one of accused chinthakunta seeks for dialysis

News


एक आरोपी ने डायलिसिस की मांग की

एक आरोपी ने डायलिसिस की मांग की

गैंगरेप के आरोपी चिंताकुंता चेन्नाकेशावुलू ने किडनी की बीमारी का इलाज मुहैया कराने की मांग की है। वह अन्य आरोपियों के साथ चेरलापल्ली सेंट्रल जेल में बंद है। मेडिकल चेकअप के दौरान उसने जेल अधिकारियों को बताया कि वह हैदराबाद के निजाम इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज में नियमित रूप से डायलिसिस करा रहा था। उसने मांग की है कि उसका डायलिसिस कराया जाए।

ये भी पढ़ें: हैदराबाद गैंगरेप मर्डर: महिला डॉक्टर के आखिरी फोन कॉल से बड़ा खुलासा, बहन से कही थी ये बात

जेल अधिकारियों ने मांगी है मेडिकल रिपोर्ट

जेल अधिकारियों ने मांगी है मेडिकल रिपोर्ट

जेल अधिकारी ने इस बाबत कहा कि उसकी मेडिकल रिपोर्ट मांगी गई है। बताया जा रहा है कि सोमवार को चारों आरोपियों में से किसी से मिलने इनसे परिवार का कोई सदस्य नहीं आया। जेल मैनुअल के मुताबिक अंडरट्रायल कैदियों से उनके परिवार के सदस्य मुलाकात कर सकते हैं लेकिन कोई उनसे मिलने जेल में नहीं आया। हैदराबाद में महिला डॉक्टर की गैंगरेप के बाद निर्मम हत्या को लेकर तेलंगाना सहित देश के अन्य भागों में भी प्रदर्शन हो रहे हैं।

वकीलों ने केस ना लड़ने का किया ऐलान

वकीलों ने केस ना लड़ने का किया ऐलान

रंगारेड्डी जिले के वकीलों ने ऐलान कर दिया है कि इन चारों आरोपियों का केस कोई नहीं लड़ेगा। इस मामले में जेल के एक अधिकारी ने कहा कि बाकी कैदियों की तरह ही ये भी कानूनी मदद मांग सकते हैं। उनकी सिफारिश को डीएलएसए एडवोकेट को सौंपा जाएगा और वे उनसे जेल में मिलेंगे। जेल में चारों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए कड़ी निगरानी रखी जा रही है।

जेल मैन्‍यूअल के हिसाब से ही दिया जा रहा खाना

जेल मैन्‍यूअल के हिसाब से ही दिया जा रहा खाना

इन आरोपियों को खाना जेल मैन्‍यूअल के हिसाब से ही दिया जा रहा है। इस चारों आरोपियों को रविवार को लंच में चावल-दाल और डिनर में मटन करी दिया गया था। बता दें कि गैंगरेप और हत्या की वारदात के 48 घंटे के अंदर पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया था। हालांकि, पीड़िता के परिवार के मुताबिक, शुरू में पुलिस ने उनकी शिकायत दर्ज नहीं की थी, इसके लिए परिवार के सदस्यों को कई घंटे तक इंतजार करना पड़ा था।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *